बाइक/कार का माइलेज कैसे बढ़ाए ?

875 0

आज के समय मे शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसके पास मोटरसाइकिल या कार नहीं हो । जिस तरह से पेट्रोल की  कीमतें आसमान छू रही हैं, लोगों के लिए अपनी कार या मोटरसाइकिल का चलाना महंगा हो गया है। हर व्यक्ति यही चाहता है कि उसकी गाड़ी अच्छा माइलेज दे लेकिन एवरेज कैसे निकाला जाता है इसकी जानकारी नहीं होती हैं । आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको उन तरीकों के बारे मे बताएँगे जिनके द्वारा आप जान पाएंगे की आपकी बाइक या कार कितना एवरेज देती है एवं और इस एवरेज को कैसे बढ़ाए –

आपकी बाइक या कार कितना एवरेज देती है

  • एक ही ब्रांड के पेट्रोल से टैंक फुल कराये

माइलेज पता करने के लिए सबसे पहले आपको अपनी गाड़ी का टैंक फुल कराना होगा। बार बार पेट्रोल चेंज करते रहने से भी माइलेज में डिफरेंस  आता है।

  • किलोमीटर की रीडिंग लेवे

गाड़ी में तेल भरते समय ट्रिप मीटर को जीरो पर फिक्स करें। जब फ्यूल आधा रह जाए तो फिर से टैंक फुल करा लें। आपको नोट करना होगा कि पिछली बार गाड़ी  कितने किलोमीटर चली है और दूसरी बार में कितने लीटर फ्यूल डाला गया है।

  • माइलेज निकाले

आपकी गाड़ी के किलोमीटर को दूसरी बार भराए गए  पेट्रोल/डीजल से भाग करें, तो आपकी कार की माइलेज निकल आएगी। उदाहरण के लिए अगर गाड़ी 300 किलोमीटर चली है और आपने 10 लीटर पेट्रोल डाला है तो आपकी कार का माइलेज होगी 30 किमी/ लीटर होगा।

  • 5-6 बार निकाले माइलेज

गाड़ी का माइलेज इस बात पर भी निर्भर करता है कि वह किस तरह की सड़क पर चली है। इसलिए 5-6 बार माइलेज निकालकर आप एवरेज निकाल सकते हैं ।

  • एप की मदद से

ऐसे कई ऐप मार्केट मे उपलब्ध हैं  जिनकी मदद से भी गाड़ी का माइलेज पता कर  सकते हैं। ये ऐप जीपीएस के माध्यम से गाड़ी का सही माइलेज बता देते हैं।
गाड़ी का माइलेज कैसे बढ़ाए

  • गाड़ी तेज ना चलाये

ज्यादातर गाड़ियाँ बढ़िया माइलेज तभी देती हैं जब उन्हें इकोनोमिक स्पीड से चलाया जाए अतः गाड़ी को इससे तेज चलाने से बचें।

  • स्मूथ ड्राइविंग करे

फ्यूल बचाने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप बार-बार गियर न बदलें। जितनी स्मूथ ड्राइविंग करेंगे फ्यूल उतना ही कम खर्च होगा।

  •  रेगुलर सर्विस

गाड़ी की सर्विस टाइम पर नहीं करवाने से इंजन पर असर पड़ता है और फ्यूल ज्यादा खर्च होता है। जब जब भी सर्विस करवाने की सलाह दी जाती है  उसी हिसाब से सर्विस कराएं तो यक़ीनन माइलेज में बढ़ावा मिलेगा ।

  • एयर फिल्टर की सफाई

हर 500-1000 किलोमीटर के बीच एयर फिल्टर की सफाई करा लें। क्योकिं प्रदूषण के कारण एयर फिल्टर जल्दी गन्दा होने लगता है, अगर यह नियमित रूप से साफ़ होगा 10,000 से 12,000 किलोमीटर के बीच स्कूटर के एयर फिल्टर को बदल लेना चाहिए इससे इंजन की पर्फोमेंस बढ़ेगी साथ ही माइलेज में भी इजाफा होगा।

  • बार बार एक्सलेटर देने से बचें

कई बार लोग खड़ी गाड़ी में बार बार एक्सलेटर देते हैं और कई बार चलती गाड़ी को एक दम से हाई एक्सलेटर दे देते हैं, ऐसा करने से इंजन पर तो लोड पडता ही है साथ फ्यूल भी ज्यादा खर्च होता है और माइलेज कम होने लगता है, इसलिए ऐसा करने से बचें।

  • इंजन ऑयल समय पर बदलें

कई इंजन ऑयल कंपनियां दावा करती हैं कि उनका कई तक किलोमीटर चलता है, लेकिन शहरों में ट्रैफिक की समस्या ज्यादा होने से इंजन ऑयल अधिक समय तक नहीं चलता और काला पड़ने अथवा कम होने लगता है ऐसे में हर 2000-2500 किलोमीटर पर ऑयल बदलवा लें। 

  • स्पार्क प्लग की सफाई  

गाड़ी में स्पार्क प्लग का भी अहम् रोल होता है, इसलिए इसकी सफाई बेहद जरूरी है। इसलिए समय-समय पर स्पार्क प्लग को चेक करें और जरूरत पड़ने पर उसे तत्काल बदलें।

  • एअर प्रेशर

गाड़ी  के पहियों में हवा हमेशा चेक करते रहना चाहिए। यदि गाड़ी के पहियों में हवा कम है तो बाइक तेज गति में नही चलेगी, और आपको ज्‍यादा से ज्‍यादा एक्‍सलेटर का प्रयोग करना पड़ेगा जिसका असर बाइक के माइलेज पर भी पड़ता है।

  • बाइक में एक्सेसरीज़ का कम प्रयोग

एक अच्‍छे माइलेज के लिए बाइक में कम से कम एक्सेसरीज़ का प्रयोग करना चाहिए। कुछ लोग बाइक को स्‍टायलिस लूक देने के लिए पहियो के तिल्लियों, हैवी लेग गार्ड, हैवी वाइजर, और हैवी टायरो के प्रयोग करते हैं ज्यादा एक्सेसरिज का यूज करने से भी बचना चाहिए।

Begin typing your search above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top