नया बिज़नस शुरू कैसे करें ?

747 0

किसी भी बिजनेस को शुरू करने से पहले प्लानिंग करना बहुत जरूरी हैं और इस प्लानिंग को लिखित मे तैयार करना एक इंपोर्टेण्ट पार्ट हैं| जिसमें बिज़नेस से संबन्धित सामान्य जानकारी, बिजनेस के लक्ष्य और लक्ष्य प्राप्त करने के तरीकों आदि  का उल्लेख करना होता हैं| बिज़नेस प्लान बनाने के कई प्रकार के फायदे हैं, इससे बिजनेस को गाइड मिलती हैं साथ ही  बैंक लोन , स्टार्टअप एवं पार्टनरशिप  आदि कई इंपोर्टेण्ट कार्यों  के लिए जरूरी होता हैं|

बिज़नस प्लानिंग की विशेषताएं –

  • बिजनेस प्लान एक ऐसा डॉक्यूमेंट है जिसके माध्यम से नए बिजनेस मे क्या करना हैं , क्यों करें  और कैसे करें से संबन्धित विवरण प्राप्त कर सकते है ।
  • नए बिजनेस को ज़माने और वर्तमान बिजनेस को अपग्रेड करने में बहुत ज़रूरी है | व्यवसाय मे किसी भी प्रकार परिवर्तन के साथ इसमे भी परिवर्तन कर सकते हैं ।
  • बिजनेस प्लान के माध्यम से एक बिजनेसमेन अपने टार्गेट का लिखित रूप और उन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए बनाई गई प्लानिंग स्पष्ट रूप से बताता है।

कोई भी बिजनेस शुरू करने से पहले उसकी प्लानिंग बिजनेस प्लान के रूप में प्रीपेयर की जाती है। इसलिए एक अच्छा बिजनेस प्लान बनाने से पहले निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए –

  1. बिजनेस प्लान का लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए ।
  2. बिजनेस प्लान बैंकर्स , इन्वेस्टर्स या शेयरहोल्डर के लिए बनाया जा सकता हैं जो इसमे इनवेस्टमेंट करते हैं ।
  3. बिजनेस प्लान मे सभी आवश्यक एलीमेंट्स शामिल करना जो फाइनेंशियल पोजीशन की प्रभावित करते हैं ।
  4. एक शॉर्ट या डिटेल्ड बिजनेस प्लान बनाना ।

एक बिजनेस प्लान  में निम्न पर फोकस  किया जाता हैं:-

  1. एक्जिक्यूटिव समरी
  2. बिजनेस का विवरण
  3. मार्केटिंग स्ट्रेटिजी
  4. कंपेटिटिव एनेलिसिस
  5. डिजाइन एवं डेवलपमेंट
  6. ऑपरेटिंग और मैनेजमेंट
  7. फाइनेंशियल फेक्टर्स

एक्जिक्यूटिव समरी

ये पूरे बिजनेस प्लान की समरी होती हैं जो सबसे लास्ट मे बनाया जाता हैं । एक स्टेंडर्ड बिजनेस प्लान मे एक्जिक्यूटिव समरी दो पेज की होती है ।

बिजनेस का विवरण

जो भी बिजनेस हम शुरू करने की प्लानिंग कर रहे हैं उससे संबन्धित समस्त बिजनेस का विवरण जैसे बिजनेस मे क्या करना हैं, कैसे करें,इसमे क्या क्या उद्देश्य हैं और इन्हे प्राप्त करने ले लिए क्या करना हैं, आदि इस भाग मे दर्शाया जाता हैं।   

मार्केटिंग स्ट्रेटिजी

बिजनेस मे सफलता प्राप्त करने, अच्छा रेवेन्यू जनरेट करने के लिए मार्केट को भली भाति समझना जरूरी हैं । इसे समझकर एक स्ट्रॉंग मार्केटिंग स्ट्रेटिजी बनाई जाती हैं तभी मार्केट मे लंबे समय तक अपना अस्तित्व बना सकते हैं ।

कंपेटिटिव एनेलिसिस

हर बिजनेस मे कंपीटीशन होता ही है । अपने बिजनेस का प्रकार समझ कर बिजनेस के कंपीटीशन का बारीकी से विश्लेषण कर लेना जरूरी होता हैं ।

डिजाइन एवं डेवलपमेंट

जो भी बिजनेस हम करने जा रहे हैं उसका ब्लूप्रिंट या मेप (डिजाइन)तैयार करके उसे डेवलप करना जरूरी ।

ऑपरेटिंग और मैनेजमेंट

किसी भी बिजनेस को कैसे ओपरेट करना हैं और उसे मैनेज करने के सभी आवश्यक तरीको का विवरण इसमे दर्शा सकते हैं ।

फाइनेंशियल फेक्टर्स

किसी भी बिजनेस मे फाइनेंशियल फ़ेक्टर महत्वपूर्ण होता हैं । बिजनेस को निरंतर बनाए रखने के लिए फाइनेंस कहाँ से होगा , कैसे होगा , इन्वेस्टर्स के बेनीफिट का सुनियोजित प्लान जरूरी हैं ।

Begin typing your search above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top