फोन में गायरोस्कोप सेंसर क्या होता हैं ?

526 0

इंडिया में अधिकतर लोग स्मार्ट फोन यूज करते है। सबसे पोपुलर ऑपरेटिंग सिस्टम  एंड्राइड ओएस है। स्मार्ट फोन में सेन्सर के बारे में आपने सुना होगा। क्या आप गायरोस्कोप सेंसर ( एक्सिलेरोमीटर) के बारे में जानते हैं , क्या अपने कभी अपना फ़ोन यूज करते हुए या नया स्मार्ट फ़ोन लेते समय उसके सेंसर्स के बारे में सोंचा है ?  आज हमारी इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको गायरोस्कोप सेंसर के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे।

एंडरोइड फोन मे कई प्रकार के सेंसर पाये जाते है और उन सबका अलग –अलग  यूज है जैसे एंड्राइड फोन उनलोक करने के लिए फिंगरप्रिंट सेंसर, वहीं  मोबाइल फोन से कॉल करते समय जैसे ही फोन कान के पास ले जाते है,तो फोन का डिस्प्ले बंद हो जाता है और कान से फोन दूर करने पर लाइट पुनः ऑन हो जाती है। यह सब सेंसर द्वारा ही होता है। आइये अब मैं आपको गायरोस्कोप सेंसर  के बारें मे बताता हूँ जो इम्पोटेंट सेंसर हैं –

गायरोस्कोप सेंसर  क्या हैं ?

गायरोस्कोप सेंसर एक ऐसा ऑप्शन होता है जो किसी ऑब्जेक्ट की एंगुलर वेलोसिटी मेजर करने के काम आता है । गायरोस्कोप सेंसर एक्सीलेरोमीटर सेंसर के जैसा ही होता है लेकिन  इसमें  एडवांस्ड फीचर्स होते है। यह सेंसर मोबाइल फोन की बारीक़ से बारीक़ इन्फोर्मेशन को देखकर सॉफ्टवेयर को इन्फॉर्म करता है कि हमने फोन को किस एंगल में झुका रखा है। इस सेंसर को 360 डिग्री के फोटो और विडियो देखने के लिए डेवलप किया गया है। यदि आप 360 डिग्री का विडियो बनाना चाहते है तो आप इस सेंसर द्वारा 360 डिग्री का फोटो या वीडियो कैप्चर कर सकते है। इस सेंसर का यूज  पब्जी गेम खेलने के लिए किया जाता है। जो यूजर्स को  काफी अट्रेक्ट करता है।

गायरोस्कोप सेंसर का यूज

गायरोस्कोप सेंसर ज़्यादातर  फोन में गेम खेलने के लिए ही प्रयोग किया जाता करते है। जब भी हम  फोन मे गेम खेलते है तो उसे हर डाइरेक्शन में मूव करना पड़ता है यह सिर्फ इस सेंसर द्वारा ही पोसिबल है।

यह सेंसर फ़ोन के कण्ट्रोल सिस्टम को यह बताता है कि आपने फ़ोन को कितनी डिग्री पर झुका रखा है । इसी के अनुसार फ़ोन आपको स्टेबिलिटी प्रोवाइड करता  है और आप बिना किसी प्रॉबलम के उस मोमेंट को एनजॉय कर सकते है ।

गायरोस्कोप सेंसर के प्रकार

साइज के आधार पर गायरोस्कोप सेंसर चार प्रकार के होते हैं –

  1. Ring Laser Gyroscope
  2. Fiber Optic Gyroscope
  3. Vibration Gyroscope
  4. Micro Electronic Mechanical System

·        रिंग लेजर गायरोस्कोप

ये सेन्सर सेगनेक इफैक्ट पर आधारित होता है । इसमे में लाइट बीम दो पार्ट्स में डिवाइड कि जाती  है जिसे अलग अलग आपोजीट डाइरेक्शन में भेजा जाता है इनकी डिस्टेन्स इक्वल होती है और जब ये लाइट मिलती है तो इन के बीच में इंटरफेस क्रिएट होता है ।

·        फाइबर ऑप्टिक सेंसर

फाइबर ऑप्टिक सेंसर भी सेगनेक्ट इफेक्ट के आधार पर ही वर्क करता है लेकिन इसमें लाइट एक्स्टरनल  लेज़र से फाइबर ऑप्टिक केबल के माध्यम से पास मे आती है ।

·        वाइब्रेशन गायरोस्कोप सेंसर 

यह छोटी साइज़ का सेंसर होता हैं । इसकी एक्यूरेसी एलिमेंट के मटेरियल पर डिपेंड करती है इसलिए मैन्युफैक्चरर इसके लिए अलग मटेरियल और स्ट्रक्चर यूज  करते है जिससे इसकी एक्यूरेसी को बढा सके । हमारे फ़ोन में इसी सेंसर का  यूज  होता है ।

  • माइक्रो इलेक्ट्रॉनिक मैकेनिकल सिस्टम

इस सेंसर को रेट मिजरमेंट के लिए यूज किया जाता है इसमें सेंसिंग स्ट्रक्चर की रेंज 1 mm से 100 mm तक होती है । 

गायरोस्कोप सेंसर का यूज

  1. फ़ोन और डिजिटल कैमरा में फोटो शेक से बचाने के लिए |
  2. रिंग लेज़र सेंसर का यूज एयरक्राफ्ट में और सोर्स शटल में किया जाता है ।
  3. रेसिंग कार और मोटरबोट में फाइबर ऑप्टिक सेंसर का यूज होता है ।
  4. इमेज स्टेबलाइजेशन , जीपीएस नेविगेशन और फ़ोन के रोटेशनल मोशन दर्शाने के लिए इसका यूज किया जाता है ।
  5. वाइब्रेशन गारो सेंसर का यूज़ कार नेविगेशन सिस्टम , मोशन सेंसिंग , 360 विडियो देखने और वर्चुअल रियलिटी पर आधारित गेम्स को खेलने में किया जाता है ।
  6. गैश्चर  सिस्टम डेवलप करने में भी गायरो सेंसर का यूज़ किया जाता है।

Begin typing your search above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top