वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग क्या हैं?कैसे करें?

271 0

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के द्वारा दो या दो से अधिक व्यक्ति किसी भी  जगह से  ऑडियो – वीडियो के माध्यम से आपस में कम्युनिकेट कर सकते है। वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग कम्युनिकेशन की एक लेटेस्ट टेक्नोलोजी है। इसमें कई रिमोट कम्यूनिकेशन टेक्निक्स का यूज किया जाता है। वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग दूसरे कम्यूनिकेशन मेथड से अलग है क्योंकि वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग मे आवाज के साथ फोटो भी दिखाई देते है । वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग में ऐसा लगता है कि जैसे दो व्यक्ति आमने सामने बैठकर ही बाते कर रहे है। इसे वीडियो कॉल के रूप मे भी जाना जाता हैं ।

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के लाभ

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के मुख्य लाभ निम्न है।

  1. शिक्षा के क्षेत्र मे

  2. टेली सेमिनार

 टेली सेमिनार का आयोजन वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग द्वारा आसानी से किया जा सकता है।इनमें टीचर और स्टूडेंट्स अपने घर या ऑफिस से ही इन सेमिनार में भाग ले सकते है ।

  • लर्निंग

 वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग का प्रयोग ई लर्निंग में भी सफलतापूर्वक किया जा सकता है । इसके माध्यम से स्टूडेंट्स आपस में  कम्युनिकेट भी कर सकते है । टीचर्स के साथ भी वार्तालाप कर सकते है।

  • हेल्प फ्रम एक्सपर्ट

सीखने के दौरान स्टूडेंट्स को अलग-अलग समस्याओ का सामना करना पड़ता है , जिसके लिए वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग का प्रयोग करके एक्सपर्ट से संपर्क बना सकते है।

  • गेस्ट लेक्चर्स

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग द्वारा दूसरे संस्थानों से अच्छे  गेस्ट फेकल्टी के लेक्चर  स्टूडेंट्स के समक्ष प्रस्तुत करवाये जा सकते हैं।

  • छुट्टियों में स्टडी

शैक्षिक सत्र के दौरान छात्र गर्मियों एवं सर्दियों की छुट्टियों में वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग से अपने अध्यापको से सम्पर्क रख सकते है तथा अपनी स्टडी जारी रख सकते है।

  • ई ट्यूटर

एक न्यू टेक्नोलोजी है । ई ट्यूटर वे टीचर है जो इन्टरनेट का यूज करके छात्रों को ट्रेनिंग देते है। ई ट्यूटर घर से ही छात्रों की शिक्षा सम्बन्धी समस्याओ का निराकरण कर देते है।

  • रिसर्च मे सहायक

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग रिसर्च के क्षेत्र में बहुत उपयोगी तकनीक है। इसके माध्यम  से वे एक स्थान पर बैठे हुए ही आसानी से लेक्चरार , प्रोफेसर से सम्पर्क कर सकते है ।इससे टाइम की भी बचत होती है।

  • शिक्षा बिजनेस क्षेत्र मे
  • वेबिनार का उपयोग करके ग्राहकों के साथ लीड्स और कनेक्ट डेवलप कर सकते हैं ।
·  क्लाउड बेस्ड वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से ओर्गेनाइजेशन के अंदर और बाहर के लोगों के साथ तुरंत फेस तो फेस कनेक्ट होना आसान हो जाता है।
·  वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में प्रत्येक इन्टरेक्शन के लिए एक ह्यूमन कनेक्शन लाने की यौनिक एबिलिटी होती है, जिससे रिमोट वर्कर अपनी टीम के साथ कनेक्टेड रहते हैं।
  • टाउन हॉल और ऑल हेण्ड्स वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग मीटिंग्स सभी एम्प्लोयीज को इंपोर्टेन्ट इवेंट एवं कंपनी मे माइलस्टोन के लिए अपटुडेट रखने मे सहायक हैं ।
  • विभिन्न क्षेत्रों मे कार्यरत टीम को संपर्क मे रखने के लिए साप्ताहिक मीटिंग बहुत जरूरी हैं जो विसी से सम्भव हैं ।

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के नुकसान

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के कई लाभ है लेकिन फिर भी इस तकनीक के कुछ नुकसान है जो निम्न है-

  1. महंगी टैक्निक्स

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग एक महंगी टैक्नीक है । इसमें महंगे इलेक्ट्रॉनिक उपकरण की आवश्यकता होती है।

  •  कॉम्प्लेक्स प्रोसेस

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग एक जटिल प्रक्रिया है इसके प्रयोग के लिए कुछ तकनीकी ज्ञान का होना जरुरी है।

  • इन्टरनेट कनेक्शन

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के लिए इंटरनेट होना आवश्यक है इन्टरनेट कनेक्शन के बिना यह प्रक्रिया असंभव है।

  • प्रोपर ट्रेनिंग

वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग को लागू करने के लिए उचित प्रशिक्षण की भी आवश्यकता होती है।

Begin typing your search above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top