सोलर एनर्जी सिस्टम क्या हैं ?

450 0

जैसा कि हम सभी जानते है की बिजली हमारे दैनिक जीवन में कितनी महत्वपूर्ण है लेकिन बढ़ती जनसंख्या के कारण बिजली निरंतर उपयोग भी बढ़ता जा रहा है। बिजली कि खपत बढ़ाने के लिए लोगो को सौर ऊर्जा की मदद से विभिन्न नई तकनीकी का प्रयोग करके, बिजली बनाने के लिए जागरूक किया जा रहा है। इस ब्लॉग के माध्यम से हम सोलर एनर्जी,इसके फायदे एवं किन किन उपकरणों मे इसे यूज किया जा सकता हैं, इसके बारे मे जानकारी प्राप्त करेंगे ।

सोलर एनर्जी क्या हैं ?
सोलर एनर्जी (सौर ऊर्जा ) सूर्य से सीधे प्राप्त होने वाली एनर्जी होती हैं । यह एनर्जी न तो जनरेट  कि जा सकता है और न ही नष्ट कि जा सकती है।

सोलर एनर्जी (सौर ऊर्जा) के महत्व 

सौर  ऊर्जा  का  उपयोग  सर्वोत्तम  उपाय 

भारत में  बिजली  का  53%  उत्पादन  कोयले  से  किया  जाता  हैं  और  ऐसा अनुमान लगाया  जाता  हैं  कि  वर्ष  2040–2050  तक  ये  संसाधन भी  समाप्त  हो जाएगा। ऐसे मे ऊर्जा  संरक्षण के लिए सौर  ऊर्जा  का  उपयोग किया जा सकता हैं साथ ही प्राकृतिक संसाधन का ह्वास होने से रोका जा सकता हैं ।  

आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा

अधिकांश क्षेत्रों में जहां बिजली  कटौती होती है, वही गावों मे सौर ऊर्जा प्रणाली पर आधारित लालटेन, पंखे, फोटो स्टेट मशीन का उपयोग से आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिल रहा है एवं ग्रामीणों के जीवन स्तर में सकारात्मक बदलाव हो रहे है।

पैसों की बचत

सौर ऊर्जा सिंचाई योजना का लाभ उठाकर किसान लागत कम कर सकते हैं और अपनी आय बढ़ा सकते हैं। इस योजना के द्वारा किसान अपने खेतों पर सोलर प्लांट स्थापित करवाकर न केवल बिजली का बिल बचा सकते हैं बल्कि लाखों रुपए की बचत भी कर सकते है।

सौर ऊर्जा से चलने वाले उपकरण

बहुत सी कंपनियां नई टेक्नोलॉजी और इनोवेशन के माध्यम से लोगों को सौर ऊर्जा से जुड़े संयंत्र और उपकरण लगाने के लिए प्रेरित कर रही हैं। सौर ऊर्जा पर आधारित प्रोडक्ट्स धूप से बिजली पैदा करते हैं। कड़ी धूप में ये तेजी से काम करते हैं, जबकि कम धूप मे इनकी कार्य क्षमता कम हो जाती है। बारिश के दिनों में ये काम नहीं करते, इसके लिए ज्यादातर प्रोडक्ट्स को बिजली से भी चलाया जा सकता है। कुछ ऐसे प्रोडक्ट जो सोलर एनर्जी से चलाये जाते हैं। इनका इस्तेमाल करने से बिजली बिल को कम करने के साथ ही पर्यावरण संरक्षण में भी सहयोग कर सकते हैं। तो आइये जानते हैं इन प्रोडक्ट्स के बारे में –

  1. सोलर कुकर : सोलर कुकर दो प्रकार के होते हैं –  बॉक्स टाइप और डिश टाइप। इसमें दाल, चावल, राजमा व सब्जियों आदि को उबाला जा सकता है। साथ ही इसमें केक आदि भी बेक किए जा सकते हैं। सोलर कुकर में लगभग 3-4 घंटे में खाना बन जाता है।
  2. सोलर वॉटर हीटिंग सिस्टम : सोलर वॉटर हीटिंग सिस्टम से गर्म हुए पानी का इस्तेमाल नहाने, कपड़े धोने, खाना पकाने, बर्तन साफ करने जैसे कामों में किया जा सकता है।
  3. सोलर इन्वर्टर : सोलर इन्वर्टर ऐसे क्षेत्रों के लिए बहुत उपयोगी हैं, जहां बिजली की बहुत अधिक समस्या है। सोलर इन्वर्टर के जरिए बिजली से चलने वाले इन्वर्टर से आने वाले बिल से भी बचा जा सकता है।
  4. गार्डन व स्ट्रीट लाइट : ये लाइट्स दिनभर सूरज की रोशनी से चार्ज होती रहती हैं और फिर रात के वक्त इस ऊर्जा का उपयोग करके जल जाती हैं। ये5-6 घंटे जलती है।
  5. होम लाइट सिस्टम : होम लाइट सिस्टम में दो बल्ब, एक पंखा, मोबाइल चार्जर और सोलर पैनल होता है। इसके साथ ही एक सिस्टम आता है, जो सोलर पैनल से मिलने वाली ऊर्जा को स्टोर करता है। दिनभर चार्ज होने के बाद इससे एक बल्ब और एक पंखा 5-6 घंटे तक जाता है। होम लाइट सिस्टम का शहरों में कम इस्तेमाल होता है, लेकिन गांवों में इसकी बहुत मांग है।

Begin typing your search above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top