By using this website, you agree to the use of cookies as described in our Privacy Policy.

सिर्फ 3 दिनों में टाइपिंग स्पीड दुगुनी करे !!

अच्छी typing स्पीड से पहले ज़रूरी है सबसे पहला काम… और वो है know your keyboard मतलब कि आप स्पीड बनाने से पहले अपने कीबोर्ड को इतनी अच्छी तरह से समझ ले कि आप उसका बिना देखे diagram भी बना ले | ये मेमोरी आपको typing स्पीड मे ज़बरदस्त हेल्प करेगी क्योकि याद रखे सही मायने मे टाइप आपकी अंगुलियाँ नहीं बल्कि आपका दिमाग करता है | अंगुलिया तो सिर्फ instructions को फॉलो करती है | अगर आप ध्यान से keyboard  को देखे तो पाएगे की कीबोर्ड सारी keys अलग अलग rows मे बटी हुयी है | यदि हम alphabates को देखे तो ये A से लेकर L  तक की ये row होम row कहलाती है और Q से लेकर  P तक ये row टॉप रो कहलाती है और z से लेकर M तक की ये row bottom रो कहलाती है |अब चलिये friends discuss करते है उन tips कि ओर जो आपकी typing speed को बिलकुल बदल देगी |

Tip-1 हमारी सबसे पहली टिप है फ़्रेंड्स – proper posture

  • सबसे पहले आप कुर्सी पर अपनी पीठ को सीधा रख कर बैठे। किसी भी सूरत मे आगे की तरफ झुके नहीं|
  • अपनी आंखों और स्क्रीन के बीच कम से कम 45 – 70 सेमी की दूरी रखें।
  • आपकी हथेली का अंत कीबोर्ड या सतह के अंत में होना चाहिए, हाँ कलाई टेबल को छू सकती है। ।
  • अपनी उंगलियों को कीबोर्ड पर सही ढंग से रखें। कभी भी अपनी उंगलियों या नाखूनों से लिखने की कोशिश न करें और ना ही कभी अपने शरीर के भार को कलाई पर रखकर आराम करने की कोशिश करें।
  • देख कर टाइप करने की कोशिश ना करें क्योकि हमारा subconscious mind इतना powerful होता है कि वो खुद बड़ी तेजी से अपने आप सीख लेता है |

Tip-2 अंगुलियों की सही स्थिति -Finger Position:

Home Row :

इसी तरह अगर आप टॉप रो और बॉटम रो की बात करे तो इस पिक्चर को ध्यान से देखिये जिसकी कलर कोडिंग से आपको पता लग जाएगा कि आपकी हर अंगुली के लिए कीबोर्ड मे एक खास key  फिक्स है और हर हाल मे आपको उसी फिंगर से ही उस key  को प्रैस करना है | for example : यदि आप left hand की little फिंगर को देखे तो आप पाएंगे कि ये 1 Q  A Z को टाइप करने के लिए responsible है मतलब कि कुछ भी हो इन keys को little फिंगर से ही टाइप करना है | ठीक इसी तरह आप बाकी fingers के लिए भी practice करे | और हाँ, space देने के लिए अंगूठे का ही इस्तेमाल करना है | इस प्रकार की practice के लिए हाथो की position के pictures आपको Google पर बड़ी आसानी से मिल जाएँगे और इस चीज़ की पूरी detail आपको इस वीडियो के description बॉक्स मे मिल जाएगी |

याद रखे आप कीबोर्ड मे चाहे कुछ भी टाइप करे लेकिन आपकी अंगुलियाँ गुम फिर कर वापस home row पर ही आती है इसीलिए इसे होम रो कहते है | याद रखे home row मे आपके left hand कि अंगुलिया ASDF पर rest करती है और right hand कि अंगुलियाँ JKL और सेमीकोलोन पर रेस्ट करती है | पूरे कीबोर्ड मे किसी भी बटन को दबाने के बाद अपनेआप अंगुलियाँ वापस इसी position पर आ जाती है | अगर detail  से देखे तो आपकी लिटल फिंगर A  पर होती है, रिंग फिंगर S पर, middle finger D पर और index finger F और G को टाइप करने के लिए फ्री होती है | ठीक इसी तरह left hand मे index फिंगर J और H को टाइप करने के लिए फ्री होती है , middle finger K पर, ring finger L पर और little फिंगर semi-colon पर होती है | आपने जरूर महसूस किया होगा की keyboard  मे F  और J key  पर कुछ उभरे हुये निशान होते है जो आपको बिना keyboard कि तरफ देखे ये बताते है कि आपकी अंगुलियाँ सही position पर ही है |

Tip No :3 सही अभ्यास -Perfect practice  

आपने ज़रूर सुना होगा फ़्रेंड्स कि practice makes man perfect लेकिन ये बात पूरी तरह सही नहीं है क्योकि सिर्फ सही method से कि गयी practice ही आपको prefect बनाती है otherwise नुकसान ज्यादा करती है | इसीलिए आप स्क्रीन पे दिये गए इस सेंटेन्स “The Quick Brown Fox Jumps Over The Lazy Dog” को बार बार टाइप करे | इस sentence कि खास बात ये है friends कि इसमे इंग्लिश के सारे alphabets A to Z आते है जो आपकी typing accuracy को बढ़ाएगे | हालांकि आप शुरू शुरू मे कुछ गलतियाँ कर सकते है लेकिन धीरे धीरे आपको 0 % error पे आना होगा जो आपके typing perfection को बढ़ाएगा | याद रखिएगा मेलकोम ग्लेडवेल ने कहा था कि किसी भी चीज़ मे perfect होने के लिए आपको 10,000 घंटों कि जरूरत पड़ती है | इसीलिए patience के साथ practice करते रहिए |

Tip No. 4 टायपिंग की गति -typing speed

जब आप टाइप करते हैं, तो keys को न देखें। अपनी उंगलियों को तब तक इधर-उधर खिसकाएं जब तक कि वे होम row मे सही position पे न आ जाये | जब आपने अभी सीखना शुरू किया है तो जल्दबाजी न करें। अपनी उंगलियों की स्पीड तभी बढ़ाए जब अंगुलियाँ सही key पर आने लगे | हमेशा आदत बनाइये की आप जो type कर रहे है उसके अगले 2-3 शब्द पहले से ही दिमाग मे स्कैन कर ले ताकि देखने मे आपकी स्पीड खराब ना हो | याद रखिए कि आपको हर key को बहुत ही lightly press करने की ही प्रैक्टिस करनी है क्योकि हर बार ज़ोर से keys को प्रैस करने मे आपका बहुत time waste हो जाएगा | 

Tip No. 5 वस्तिविक अभ्यास Real-time practice

मतलब की आपको live typing की प्रैक्टिस करनी है जो की आप ऑनलाइन chat या अपने comments के live reply दे कर भी कर सकते है | ज्यादा से ज्यादा आप मेल करे, text message करे या किसी typing  software की मदद से अपनी typing स्पीड और accuracy को बढ़ाए | अक्सर लोग ये गलती करते है की जिन शब्दो को वे अच्छे से टाइप कर लेते है उनको बड़ी तेज़ी से टाइप करते है और जो शब्द उनको कठिन लगते है उनको वे धीरे टाइप करते है | आप से request है friends कि आप कोशिश करे एक आप एक लय और एक rythem मे ही टाइप करे ना कि कम ज्यादा स्पीड से |

Other Popular Posts