अपने सपने को सच कैसे करें?

1199 0

सपने वो ही पूरे कर सकते हैं जो सपने देखते हैं । हर व्यक्ति का कोई न कोई सपना होता हैं। सपने पूरे करने के लिए वह निरंतर प्रयास तो करता है लेकिन हर व्यक्ति का सपना सच नहीं होता| कुछ व्यक्ति ही सपने को हकीकत मे बदलते है बाकि के सपने सपने ही रह जाते हैं । हर व्यक्ति यही चाहता हैं की वह जो भी सपना देखता हैं वह अवश्य पूरा हो लेकिन सपना देखने मात्र से ही वे पूरे नहीं होते, इन्हे पूरा करने के लिए उसे दिन रात मेहनत करनी जरूरी होती है । सपने सच करने के लिए मूल मंत्र हैं “ ढृढ निश्चय ओर पूर्ण विश्वास ”और इसी के साथ सपना पूर्ण किया जा सकता है।

सपने चाहे कितने ही बड़े हो यदि नियमानुसार उनका अनुसरण करे तो अवश्य ही पूरे हो सकते हैं, केवल शर्त हैं जब तक सफलता न मिले लक्ष्य को बीच मे ही ना छोड़े और लगातार प्रयास जारी रखने की कोशिश करें क्योकि कहा गया है “कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती”| कुछ एसे तरीके हैं जिनको फॉलो करके आसानी से हर सपने को कोई भी व्यक्ति पूरा कर सकता हैं ।

सपने साकार करने के नियम

1. सपने को पहचानना-
हर व्यक्ति का सपना अलग हो सकता हैं | कोई बड़ा आदमी बनने का सपना देखता है, कोई परीक्षा मे सफल होना चाहता हैं, कोई अच्छी जॉब पाना चाहता है तो कोई अच्छे पैसे कमाना चाहता हैं| सबसे पहले ये जरूरी हैं की अपने लिए देखे गए सपने की भली भाति पहचान कर ले ।
2. खुद पर विश्वास-
सिर्फ सपना देखना ही काफी नहीं है उसे पूरा करने के लिए खुद पर विश्वास भी होना जरूरी हैं| हौसले बुलंद हो क्योकिं “हौसला वो करवाता हैं जो आप करना चाहते हैं” | अतः पूरे करने के लिए जी जान लगा दे तब तक ना रुके जब तक की वह सफल न हो जाए ।
3. प्लानिंग-
चाहे सपने कितने ही अच्छे क्यों ना हो, लेकिन बिना अच्छी प्लानिंग के उन्हें पूरा करना असंभव है | जो सपना व्यक्ति देखता हैं उसकी सुढृढ रणनीति बनाकर उसे पूरा करना चाहिए ।
4. धैर्य (धीरज)-
“धैर्य मनुष्य का वह सारथी हैं”, जो सफलता के हर शिखर पर ले जाता हैं,जो हर किसी से लड़ने की ताकत दिलाता हैं ”। कभी कभी सपने हकीकत मे बदलने मे समय भी लग जाता है और ये जरूरी नहीं की अतिशीघ्र सफलता मिल जाए अतः हमेशा धैर्य रखना चाहिए ।
5. प्रेरणा-
हमेशा सफल व्यक्तियों से प्रेरणा लेनी चाहिए । प्रेरक कहानिया , विडियो, मूवी आदि का अनुसरण करना चाहिए क्योकि इनके द्वारा यहह सीखा जा सकता है कि कठिन समय मे कैसे संघर्ष करके सफलता प्राप्त की जाती हैं ।
6. सही दिशा-
हमेशा सही दिशा मे मेहनत करनी चाहिए क्योंकि लहरों के विपरीत दौड़ने से कश्तीया हमेशा डूब जाया करती हैं ।
7. गलतियाँ ना दोहराए-
कोई भी काम करते हैं तो ये जरूरी नहीं की उसमे कोई गलती नहीं हो, गलती होना स्वाभाविक हैं |गलती होने से कभी भी डरना नहीं चाहिए । गलती होना जरूरी हैं ताकि उसमें सुधार किया जा सके लेकिन कभी भी गलती को दोहराना नहीं चाहिए । इसमे सुधार करके वापस कार्य को अंजाम देना चाहिए ।
8. अनुशासन-
कभी कभी काम को जल्दी पूरा करने के लिए अनुशासन से संबन्धित नियमों का उलंघन कर दिया जाता हैं इससे कार्य पूरे तो हो जाते हैं लेकिन ये सफलता क्षणिक होती है अतः अनुशासन का पूर्ण ध्यान रखना चाहिए ।
9. अभी से शुरुआत करें-
“काल करे सो आज कर, आज करे सो अब,पल मे परलय होय हैं , बहुरि करेगा कब” अर्थात जो भी प्लानिंग की गई है उसकी शुरुआत अतिशीघ्र करनी चाहिए टालने की आदत से बचना चाहिए ताकि      आशानुरूप परिणाम मिल सके ।
10. तरीके मे बदलाव करें
बार बार मेहनत के बावजूद असफलता प्राप्त होती हैं तो अपने तरीके मे बदलाव करके पुनः प्रयास करना चाहिए | कभी भी लक्ष्य ओर मेहनत करना नहीं छोड़ना चाहिए ।

Begin typing your search above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top