घर पर फर्स्ट एड बॉक्स कैसे बनाये ?

1222 0

हमारा जीवन बड़ा अनिश्चित है जिसमे हमें कभी भी अचानक किसी बड़े हादसे का सामना करना पड़ सकता है| कम करते करते कोई भी जल जाय, किसी के चोट लग जाय या किसी को कोई जानवर काट ले और यदि उस समय आसपास कोई डॉक्टर मौजूद नहीं हो तो ऐसे समय में हमें प्राथमिक चिकित्सा की जानकारी होना बहुत आवश्यक हैं । प्राथमिक चिकित्सा घर मे विशेष साधनो द्वारा दी जा सकती हैं ।

प्राथमिक चिकित्सा के उद्देश्य

  1. प्रथम चिकित्सा – पेशेंट को प्रथम ट्रीटमेंट होता है जिसमे यदि चोट लगी हो ओर रक्त बह रहा हो तो उसे तुरंत रोकना , चिकित्सक तक पहुचने से पहले तक का बचाव ।
  2. रोगी को सुरक्षित, भीड़ मुक्त स्थान पर शिफ्ट करना ।
  3. अगर सांस लेने मे परेशानी हो तो कृत्रिम सांस देना ।
  4. अगर जहर का मामला हैं तो उल्टी कराना ।
  5. यदि किसी अंग की हड्डी टूट जाये तो अंग को हल्के से रखना ।
  6. जहरीले जानवर के काटे जाने पर दोनों तरफ कसकर बांध देना ताकि जहर वहा से आगे ना फैले ।
  7. यदि पानी मे डूब जाता हैं तो बाहर निकालकर उल्टा लेटाकर पानी निकालना ।

प्राथमिक चिकित्सा कब दे ?

  1. प्राथमिक चिकित्सा तुरंत देनी चाहिए ।
  2. प्राथमिक चिकित्सा जब तक इंसान जीवित होता हैं तब तक देनी चाहिए ।
  3. ये अस्थाई रूप से प्रदान की जाती है जब तक चिकित्सक द्वारा स्थायी चिकित्सा ना मिल जाये ।

फर्स्ट एड बॉक्स

स्कूल , कॉलेज , वाहन और घरों  मे फर्स्ट एड बॉक्स सदैव रखना चाहिये । इससे तुरंत प्राथमिक चिकित्सा देने मे आसानी हो जाती   हैं । फर्स्ट एड बॉक्स मे प्राथमिक चिकित्सा देने संबन्धित सभी निम्न सामाग्री मौजूद होती हैं –

उपकरण

  1. छोटी कैंची
  2. पट्टी ( बेंडेज ) चौड़ी और सँकरी
  3. टेप
  4. रुई का छोटा पैकेट
  5. स्प्रिट या डिटोल
  6. चिमटी
  7. वाटरप्रूफ बैंड एड
  8. सेफ्टीपिन
  9. सुई
  10. थर्मामीटर

आवश्यक दवाएं

  1. पेरासीटामोल
  2. पेन रिलीफ़ ट्यूब
  3. एंटीसेप्टिक
  4. डिस्प्रीन  
  5. बरनोल
  6. ओ.आर.एस
  7. बोरिक पाउडर
  8. फिटकरी
  9. ग्लूकोस

Begin typing your search above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top